UA-176735881-1

कोरोना संकट में काम करवाना है तो मानदेय भी दे सरकार…आशाएं

आशाओं की समस्या को लेकर करेंगे मुख्यमंत्री से बात…सुखराम

ASOKA TIMES/पांवटा साहिब

हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर कोरोना संकट सामने आ रहा है जिसके लिए आशाओं को सक्रिय भूमिका निभाने की आदेश हुए हैं वहीं बुधवार को आशा वर्कर्स ने कैबिनेट मंत्री चौधरी सुखराम के सामने अपनी समस्याओं को रखा।

 सफनॉक्स लाइफ साइंसेज

जिला सिरमौर की आशा वर्कर्स ने कैबिनेट मंत्री के सामने अपनी समस्याओं को रखा उन्होंने कहा कि उनके पास किसी तरह की कोई भी सुरक्षा इंतजाम नहीं है और सीधे तौर पर उन्हें संक्रमित लोगों से मिलना होता है वही उन्हें पूरा दिन फील्ड में काम करने के बाद केवल ₹100 मिल रहे हैं जो कि सरकार द्वारा निर्धारित डेली वेजेस 255 रुपए से भी बेहद कम है ।

इतना ही नहीं इस कोरोना कॉल संकट में आशाओं को सीधे संक्रमितों के सामने झोंक दिया जाता है ना तो आशाओं के लिए कोई नीति है और ना ही उन्हें सम्मान पुर्वक मानदेय दिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि गर्भवती जनरल महिलाओं की देखभाल की ₹600 उन्हें 9 माह बाद मिलते थे वह भी अब बंद कर दिए गए हैं जबकि हमारी जिम्मेदारी अब भी सभी गर्भवती महिलाओं की देखभाल की रखी गई है।

विशाल

कोरोना संकट में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाली आशा वर्कर को अब तक अगस्त के बाद कोरोना संकट का मानदेय नहीं मिल पाया है । वहीं एक बार फिर सरकार चाहती है कि आशा वर्कर्स इस वक्त हिमाचल प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर मैदान में उतरे और सर्वे कर लोगों का विवरण सरकार तक पहुंचाए।

इस बारे में जिला सिरमौर की बिंदु, ममता, रुबीना, पूनम चौधरी, सोनू, ज्योति, रीना, अनीता, मिलन जसविंदर, सोनिया, वर्षा, उषा, गुरशरण, मीरा आदि ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान उन्हें प्रति माह केवल 1000 रूपया मानदेय दिया गया अगस्त के बाद वह भी नहीं आ रहा है।

दूसरी और कोरोना संकट व हिम सुरक्षा अभियान के दौरान भी आशा वर्कर्स को न केवल कोरोना संक्रमित का पता लगाना है बल्कि साथ ही टीवी, हाइपरटेंशन, शुगर, कुष्ठ रोगियों आदि घातक बीमारियों का विवरण भी सरकार तक पहुंचाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है अगले 1 महीने में आशाओं को अपने वार्ड और पंचायत का विवरण सरकार को सौंपना है ।

इस खतरे भरे काम के आशा वर्कर्स को ₹100 प्रतिदिन के हिसाब से दिए जाने हैं। वहीं दूसरी ओर आशा वर्कर्स की मानदेय को लगातार कम किया जा रहा है जिसके कारण सभी आशाओं में रोष व्याप्त है ।

वहीं दूसरी ओर कैबिनेट मंत्री चौधरी सुखराम ने आश्वासन दिया है कि वह आशाओं की सभी समस्याएं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के सामने रखेंगे और जो भी संभवत मानी जा सकने वाली मांगे होंगी उन्हें पूरा करवाया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *