UA-176735881-1

कैबिनेट मंत्री के आश्वासन के बाद काम पर लौटी आशाएं…

हिम सुरक्षा योजना पड़ी थी बंद.. अधिकारियों की अटकी थी सांसे…

ASOKA TIMES/पांवटा साहिब

आशा वर्कर्स रविवार को कैबिनेट मंत्री चौधरी सुखराम के आश्वासन के बाद काम पर लौट आई हैं जिला सिरमौर में हिम सुरक्षा अभियान पूरी तरह से ठप पड़ा हुआ था ।

पांवटा साहिब में कैबिनेट मंत्री चौधरी सुखराम ने कहा कि आशा वर्कर्स को आश्वासन दिया है कि मुख्यमंत्री के समक्ष उनकी सभी जायज मांगों को उठाया जाएगा । उन्होंने कहा कि उनकी मांगों पर सरकार गौर करेगी और आवश्यकता अनुसार उन्हें पूरा भी किया जाएगा।

जिसके बाद पांवटा साहिब में काम कर रही आशाओं ने अपनी हड़ताल को खत्म कर दिया है आपको बता दें कि हिम सुरक्षा अभियान के तहत आशाओं को 30 दिनों घर घर जाकर कोरोना संक्रमित, हाई बीपी, शुगर, कुष्ठ रोग, टीबी आदि गंभीर बीमारियों का सर्वे करना है। इस सर्वे के आधार पर हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस व अन्य पांच बीमारियों को लेकर सरकार सुरक्षा अभियान चलाएगी ।

वहीं दूसरी ओर आशाओं ने बताया कि कैबिनेट मंत्री चौधरी सुखराम के साथ बातचीत में हमने अपनी मांगे जिसमें मुख्यता 8 घंटे से अधिक अगर काम लिया जाता है तो सरकार द्वारा निर्धारित ₹275 डेली वेजेस दिहाड़ी उन्हें दी जाए।

2. कोविड-19 संक्रमण जारी है आशा वर्कर्स फिल्ड में जाकर काम कर रही है लेकिन सरकार द्वारा अगस्त माह के बाद कोविड-19 के लिए जो मानदेय दिया जा रहा था वह बंद कर दिया गया है अगस्त माह से लेकर जब तक कोविड-19 का दौर जारी है उन्हें मानदेय दिया जाए।

3. यह की जनरल कैटेगरी गर्भवती महिलाओं की 9 माह देखभाल के बाद ₹600 दिए जाते थे वह भी बंद कर दिए गए हैं। उन्हें यह दिया जाए।

(4) फरवरी माह में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा घोषित आशाओं को ₹500 प्रति माह बढ़ाकर देने की जो घोषणा की गई थी वह भी पूरी नहीं की गई है।

(5) हमारे द्वारा फिल्ड में काम करने के बाद जो इंसेंटिव व हमारा वेतन बनता है वह कई कई महीनों बाद दिया जाता है यह वेतन प्रतिमाह देने का आदेश पारित हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *